spot_img
Homenewsपत्रकार खशोगी केस: सऊदी क्राउन प्रिंस का कड़ा फैसला, कहा-नृशंस अपराध की...

पत्रकार खशोगी केस: सऊदी क्राउन प्रिंस का कड़ा फैसला, कहा-नृशंस अपराध की देंगे सजा

: पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या का मामला एक कड़ा रूख लेता जा रहा है। एक तरफ जहां अमेरिका सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पर हाल में ही वॉल स्ट्रीट जर्नल को दिए इंटरव्यू में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने खशोगी की मौत में सऊदी क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान का हाथ होने की कड़ी टिप्पणी की थी जिस पर अब क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या को नृशंस अपराध कहते हुए निंदा की है।

क्राउन प्रिंस ने जोर देकर कहा है कि उनका देश तुर्की के अधिकारियों का सहयोग कर रहा है और न्याय होगा। साथ ही यह भी कहा कि खशोगी हत्या मामले में सभी ज़िम्मेदार ‘अपराधियों’ को सजा दी जाएगी। पत्रकार की हत्या के बाद पहली बार क्राउन प्रिंस ने बुधवार को टिप्पणी की।

रियाद में फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशिएटिव फोरम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘सभी सऊदी लोगों के लिए यह अपराध दुखदायी है और यह पूरी दुनिया के हर व्यक्ति के लिए दर्दनाक और नृशंस है। जिन लोगों ने इस अपराध को अंजाम दिया है उन्हें जिम्मेवार ठहराया जाएगा। आखिर में न्याय की जीत होगी।’

बता दें कि, सऊदी लगातार इन आरोपों को खारिज करता रहा है कि क्राउन प्रिंस की पत्रकार खशोगी की हत्या में कोई भी भूमिका है। गौरतलब है कि दो अक्टूबर को पत्रकार खशोगी इस्तांबुल के सऊदी दूतावास में गए थे, जहां उनकी हत्या कर दी गई थी।

पहले सऊदी सरकार ने दूतावास में हत्या की  बात से इनकार किया था, लेकिन बाद में खुद ही कहा था कि खशोगी दूतावास में हुए झगड़े में मारे गए थे। वहीं तुर्की मीडिया ने आशंका जताई है कि 2 अक्टूबर को सऊदी एजेंट्स द्वारा खशोगी की हत्या के बाद उनके शव के कई टुकड़े कर दिए गए हैं। इस्तांबुल में सऊदी अरब के वाणिज्यिक दूतावास में एक जानेमाने पत्रकार की हत्या को लेकर सनसनीखेज जानकारी सामने आई।

उस दिन का एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया है, जिससे हत्या के बाद भ्रम पैदा करने के लिए अपनाए गए तरीकों का पता चलता है। तारीख थी 2 अक्टूबर 2018, सुबह के 11.03 बजे शर्ट और जींस पहने एक शख्स अपने कुछ साथियों के साथ दूतावास में दाखिल होता है। 2 घंटे के बाद दोपहर 1.14 मिनट पर पत्रकार जमाल खशोगी कांसुलेट में प्रवेश करते हैं और कुछ ही मिनटों में दूतावास के भीतर खूनी खेल खेला जाता है।

यदि आप भी पत्रकारिता क्षेत्र जुड़ना चाहते है तो, जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से:-