ग्राम उत्थान के प्रति पूरी तरह से गंभीर हैं हरियाणा सरकार

13
CM MANOHAR LAL

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ग्राम उत्थान के प्रति पूरी तरह से गंभीर हैं, वे जहां ग्रामीणों की समस्याओं का समाधान ग्राम-स्तर पर ही करने के लिए प्रयासरत हैं वहीं सरकारी योजनाओं को उनके घर द्वार पर ही देने के लिए कटिबद्घ हैं। इसका साक्षात् उदाहरण आज उस वक्त देखने को मिला जब वे ‘ग्राम सरंक्षक संवाद कार्यक्रम’ के तहत ग्राम संरक्षकों से सीधा फोन-कॉल के माध्यम से की बातचीत किया।

मुख्यमंत्री ने दोपहर के समय अपने आवास से आज ऑडियो-कान्फ्रेंस के माध्यम से राज्यभर के हजारों ग्राम-संरक्षकों से संवाद स्थापित किया। ‘हरियाणा पंचायत संरक्षक योजना-2021’ के तहत प्रदेश के विभिन्न विभागों में सेवारत प्रथम-श्रेणी के अधिकारियों को ‘ग्राम-संरक्षक’ के तौर पर नामित करके एक-एक गांव को गोद दिया गया था ताकि ये अधिकारी गांव में पहुंचकर ग्रामीणों की समस्याओं को यथाशीघ्र हल करने में सहायता कर सकें।

3 दिसंबर को पंचायतीराज संस्थाओं के चुने गए प्रतिनिधियों को शपथ दिलवाएं

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने ‘ग्राम-संरक्षकों’ को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने आवंटित गांव में 3 दिसंबर 2022 को अवश्य पहुंचें और पंचायतीराज संस्थाओं के चुने गए प्रतिनिधियों को शपथ दिलवाएं। इसके अलावा, वे 10 दिसंबर 2022 को चिरायु कार्ड के बनाने व आवंटन में भी सहयोग करेंगे। उन्होंने कहा कि वे भविष्य में प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह में ‘ग्राम-संरक्षकों’ से संवाद किया करेंगे ताकि उनको निर्धारित किए गए कार्यों की फीडबैक ली जा सके।

युवाओं व समाजसेवी लोगों की समिति बनाएं: सीएम

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने ‘ग्राम-संरक्षकों’ को समाज-सेवा के प्रति प्रेरित करते हुए कहा कि वे गांव में जाकर सरपंच व अन्य मौजिज व्यक्तियों से मिलें और उनसे गांव की समस्याओं पर चर्चा करें। किसी भी समस्या को संबंधित विभागीय अधिकारियों से समन्वय स्थापित करके हल करें। उन्होंने पिछली बार ‘ग्राम सरंक्षक संवाद कार्यक्रम’ में अलॉट किए गए परिवार पहचान पत्रों की आय की जांच , पार्क व व्यायामशाला का रखरखाव, शिवधाम योजना के तहत शमशान घाटों की देखभाल व आंगनवाड़ी के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि इन कार्यों में सहयोग लेने के लिए संबंधित गांव के ही युवाओं, सेवानिवृत कर्मचारियों व अधिकारियों की समिति बनाएं ताकि समाज-सेवा के कार्य में उनकी भागीदारी हो।

मुख्यमंत्री ने ‘ग्राम-संरक्षकों’ को चार नए कार्य सौंपे

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने ‘ग्राम-संरक्षकों’ में सेवा-भावना का जोश भरते हुए कहा कि वे मन से कार्य करेंगे तभी अच्छा कार्य होगा। उन्होंने चार नए कार्य सौंपते हुए कहा कि इन सभी 8 कार्यों से ‘ग्राम-संरक्षकों’ का भी मूल्यांकन होगा। उन्होंने 3 दिसंबर 2022 को सरपंचों व पंचों को गांव में पहुंचकर शपथ दिलवाने, नए चिरायु कार्ड का 10 दिसंबर को वितरण करवाने, वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में जाकर विद्यार्थियों को दिए गए टेबलेट के सदुपयोग की समीक्षा करने तथा गांव में 25 अतिरिक्त परिवारों की आय का सत्यापन परिवार पहचान पत्र में करने का कार्य सौंपा, ये सभी आठों कार्य दिसंबर माह के अंत तक हर हाल में पूरे करके अपनी रिपोर्ट www.intraharyana.gov.in पोर्टल पर डालेंगे।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रमुख प्रधान सचिव डी.एस ढ़ेसी, प्रधान सचिव वी. उमाशंकर, अतिरिक्त प्रधान सचिव एवं सूचना, जनसपंर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक डॉ.अमित अग्रवाल व उपप्रधान सचिव के.एम पांडुरंग भी उपस्थित थे।