अंग्रेजों से माफी मांगने के दिखाएं सबूत, सावरकर के पोते ने दी राहुल गांधी को चुनौती

21

सावरकर को लेकर राहुल गांधी की टिप्पणियों को बचकाना बताते हुए पोते रंजीत सावरकर ने उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की. रंजीत ने कहा कि राहुल गांधी सबूत दिखाएं कि सावरकर ने अंग्रेजों से माफी मांगी थी.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने हाल ही में वीडी सावरकर को लेकर टिप्पणी की थी, जिसको लेकर सावरकर के पोते ने उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. उन्होंने सोमवार को कांग्रेस नेता को चुनौती दी कि वो सावरकर द्वारा अंग्रेजों से माफी मांगने के दस्तावेज दिखाएं.

लोकसभा की सदस्यता से अयोग्य घोषित किए जाने के बाद राहुल गांधी ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था, “मेरा नाम सावरकर नहीं है, मेरा नाम गांधी है और गांधी किसी से माफी नहीं मांगते.” दरअसल मोदी सरनेम को लेकर टिप्पणी पर बीजेपी लगातार राहुल गांधी से माफी की मांग कर रही है. इसको लेकर ही पूछे गए एक सवाल में राहुल गांधी ने सावरकर को लेकर टिप्पणी की थी.

वहीं राहुल गांधी की इस तरह की टिप्पणियों को सावरकर के पोते रंजीत सावरकर ने बचकाना बताते हुए कहा, “राहु गांधी कह रहे हैं कि वह माफी नहीं मांगेंगे क्योंकि वह सावरकर नहीं हैं. मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि सावरकर द्वारा माफी मांगने वाले दस्तावेज दिखाएं.” रंजीत सावरकर ने कहा, “राजनीति को बढ़ावा देने के लिए देशभक्तों के नाम का इस्तेमाल करना गलत और निंदनीय है. इसको लेकर कार्रवाई की जानी चाहिए.”

राहुल गांधी ने इससे पहले 2022 में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान महाराष्ट्र के वाशिम जिले में एक रैली में वीर सावरकर को लेकर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि एक ओर बिरसा मुंडा जैसी महान शख्सियत हैं, जो अंग्रेजों के सामने झुकी नहीं और दूसरी ओर सावरकर हैं, जो अंग्रेजों से माफी मांग रहे थे. उन्होंने कहा था कि सावरकर जी, दो-तीन साल उन्हें अंडमान में बंद कर दिया तो उन्होंने चिट्ठी लिखनी शुरू कर दी कि हमें माफ कर दो. राहुल ने एक चिट्ठी पेश करते हुए दावा किया था कि ये सावरकर ने लिखी थी. इस मामले में भी रंजीत सावरकर ने मुंबई के शिवाजी पार्क थाने में राहुल के खिलाफ शिकायत की थी.

ReadAlso; 17 साल बाद मिला इंसाफ!, उमेश पाल अपहरण केस में माफिया अतीक अहमद दोषी करार