ईशा अंबानी के कपड़ों के पीछे की दिलचस्प कहानी, लोगों ने जमकर की तारीफ

3

पिछले कुछ सालों में इंडिया ने मेट गाला जैसे विदेशी इवेंट में धीरे-धीरे ही सही लेकिन मजबूत जगह बनाना शुरू किया है। हर बार की थीम को हमारे यहां के सितारे बखूबी फॉलो करते दिखे हैं। मेटा गाला 2024 में तो भारतीय सेलेब्स से लेकर डिजाइनरों तक की धूम रही। फैशन एक्सपर्ट्स तक इन्हें अपनी बेस्ट लुक्स की लिस्ट में जगह देते दिखे।

इस सबके बीच ईशा अंबानी के लुक अपने आप में बेहद खूबसूरत था। सोशल हैंडल पर उनके जो फोटोज सामने आए, वो उनके स्टनिंग क्लोदिंग सिलेक्शन को साफ दिखा गए। लोगों ने अंबानी की इस वारिस की जमकर तारीफ की, पर इन कपड़ों के पीछे छिपे मतलब को कम ही लोग समझ पाए।

ईशा के लुक की तस्वीरें तो सभी अब तक देख ही चुके होंगे। अंबानी की लाडली ने इस बार मेट गाला में स्टनिंग फ्लोरल वर्क से सजा गाउन पहना था। इसकी ड्रमैटिक टेल डीटेलिंग ओवरऑल अपीयरेंस को जबरदस्त आई कैची एलिमेंट से भर रही थी। ऊपर से मेकअप से लेकर जूलरी तक को जिस तरह से इसके साथ पेयर किया गया था, वो सब मिलकर ईशा को फ्लॉलेस लुक दे रहे थे।

ईशा अंबानी के कपड़ों पर मोटिफ्स से लेकर रिच एम्ब्रॉइडरी की भरमार थी, जिसे एक-एक करके कई कारीगरों ने हाथों से सिला था। इसके लिए राइनस्टोन, सीक्वन, बीड्स, जरी, कुंदन, फरीशा, जरदोजी, नकाशी, दबका और फ्रेंच नॉट जैसी कई तकनीकों व मटीरियल का इस्तेमाल किया गया। कपड़े पर जो फूल, ड्रैगनफ्लाई, तितलियां आदि बनाए गए थे, वो पृथ्वी की मौजूदा स्थिति के साथ ही उम्मीद और पुनर्जन्म की कहानी बयां कर रहे थे। कपड़े पर एक-एक करके हाथों से जड़े गए फूल, पत्तियां और भी बहुत कुछ दिखाते हैं। ये संदेश देते हैं कि कुछ पेड़ों पर फूल और फल आने में दशकों का समय लग जाता है, तो वहीं कुछ पर ये महज हफ्तों में खिल जाते हैं। लेकिन जीवन का चक्र चलता रहता है। बदलाव होते रहते हैं।

जिस तरह एक माली अपने बागवान का ख्याल रखता है, उसी भावना को इस कपड़े पर भी उकेरा गया है। ये राहुल मिश्रा की लंबी जर्नी को दिखाता है। करीब एक दशक के ज्यादा समय की फैशन इंडस्ट्री में यात्रा उतार-चढ़ाव और बदलावों से भरी रही, लेकिन ये रुकी नहीं। समय के साथ जिंदगी चलती ही रहती है और इसी भाव को बयां करने के लिए गाउन का नाम ‘रिवर ऑफ लाइफ’ रखा गया।