spot_img
Homenewsइजराइल के राजदूत ने की मुख्यमंत्री योगी से मुलाकात, कहा भारत-इजराइल के...

इजराइल के राजदूत ने की मुख्यमंत्री योगी से मुलाकात, कहा भारत-इजराइल के बीच हैं मजबूत सम्बन्ध

लखनऊ-बीते सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास पर इजराइल के राजदूत नाओर गिलोन के नेतृत्व में इजराइल के एक सरकारी प्रतिनिधमंडल ने भेंट की।
आधिकारिक बयान के अनुसार, वार्ता के दौरान राजदूत गिलोन ने कहा, ‘‘इजराइल और भारत के बीच मजबूत सामरिक संबंध हैं। उत्तर प्रदेश के साथ हम कई क्षेत्रों में अच्छे सहयोगी की भूमिका में हैं। निकट भविष्य में इजराइल रक्षा, पुलिस आधुनिकीकरण, कृषि आधुनिकीकरण, किसानों को पानी के बेहतर उपयोग, बुंदेलखंड में पेयजल उपलब्धता और रक्षा उत्पादन के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश के साथ सहयोग करने वाला है।’’
मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक ट्वीट में कहा है, ”उत्तर प्रदेश का पुलिस बल दुनिया के विशालतम सिविल पुलिस बल में से एक है। हम अपने पुलिस बल के आधुनिकीकरण की योजना पर काम कर रहे हैं। इसमें इजराइल हमारा सहयोग कर सकता है। फॉरेंसिक लैब्स (प्रयेागशाला) की मजबूती में भी इजराइल हमारा अच्छा सहयोगी बन सकता है।”
बयान के मुताबिक, मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2017 में अपनी इजरायल यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच सहयोग के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की थी। उन्होंने कहा कि इस दौरे में उत्तर प्रदेश का एक प्रतिनिधिमंडल भी शामिल था। उन्होंने कहा कि हाल के वर्षों में भारत-इजराइल का संबंध और मजबूत हुआ है और उत्तर प्रदेश दोनों देशों के बीच परस्पर संबंधों की बेहतरी में अपनी सकारात्मक भूमिका निभाने को तत्पर है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इजराइल के सहयोग से उत्तर प्रदेश के जनपद बस्ती और कन्नौज में स्थापित दो सेंटर ऑफ एक्सीलेंस अपने उद्देश्यों में सफलता प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हमारी योजना वानिकी (बागवानी) और सब्जी उत्पादन के क्षेत्र में नए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के स्थापना की है। इसमें हमें इजराइल से आवश्यक सहयोग प्राप्त होगा।’’
इजराइल को उत्तर प्रदेश में विकसित किए जा रहे रक्षा गलियारे में निवेश पर विचार करने का न्योता देते हुए आदित्यनाथ ने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश में स्थापित हो रहा ‘डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरीडोर’ (रक्षा उद्यम गलियारा) इजराइल के लिए निवेश के अवसरों से भरा हुआ है। हमारे पास विशाल भूमि है, पर्याप्त मानव संसाधन है। हम रक्षा उत्पादन की इच्छुक निवेशक कंपनियों को सभी जरूरी संसाधन उपलब्ध करा रहे हैं। इजराइल के लिए यह अच्छा मंच है। ड्रोन और एंटी ड्रोन तकनीक में इजराइल के पास अच्छा अनुभव है।’’