Home news कौन है स्पेस में 1000 दिन बिताने वाले अंतरिक्ष यात्री जानें!

कौन है स्पेस में 1000 दिन बिताने वाले अंतरिक्ष यात्री जानें!

7

रूसी अंतरिक्ष यात्री ओलेग कोनोनेंको ने वर्ल्ड रिकॉर्ड बना लिया है. ओलेग अंतरिक्ष में सबसे ज्यादा दिन बिताने वाले पहले अंतरिक्ष यात्री बन गए हैं. ओलेग कोनोनेंको स्पेस में 1000 दिन पूरा करने वाले दुनिया के पहले व्यक्ति बन गए हैं. रूस में एस्ट्रोनॉट को कॉस्मोनॉट कहते हैं. ओलेग ने कुल मिलाकर स्पेस में 1000 दिन पूरा करने का रिकॉर्ड बना लिया है. इससे पहले यह रिकॉर्ड रूसी कॉस्मोनॉट गेनाडी पडाल्का का था.

कौन हैं रिकॉर्ड बनाने वाले रूसी एस्ट्रोनॉट ओलेग?

21 जून, 1964 को तुर्कमेनिस्तान में जन्में ओलेग को बचपन से अंतरिक्ष को समझने में दिलचस्पी थी. उनके पिता दिमित्री इवानोविच एक कंपनी में बतौर ड्राइवर काम करते थे और मां ताइसिया तुर्कमेनाबात एयरपोर्ट पर कम्युनिकेशन ऑपरेटर थीं. ओलेग ने इसी देश से हाईस्कूल किया. इसके साथ स्थानीय भाषा में सर्वाधिक नम्बर पाने का कीर्तिमान हासिल किया.

संघर्ष की कहानी

स्कूली पढ़ाई के बाद अपने सपने को साकार करने के लिए खारकोव एविएशन इंस्टीट्यूट में एडमिशन पाने की कोशिश की, लेकिन दाखिला नहीं मिल सका. वो घर वापस आ गए और तुर्कमेनाबात एयरपोर्ट एविएशन की टूल शॉप पर काम करने लगे. तैयारी के बाद उन्होंने वापस उसी संस्थान में टेस्ट दिया और सफल रहे. इस तरह ग्रेजुएट हुए और मैकेनिकल इंजीनियर बने.

अंतरिक्षयात्री बनने का सफर

ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने रूसी स्पेस एजेंसी के डिजाइन ब्यूरो के साथ मिलकर काम करना शुरू किया. बतौर डिजाइन इंजीनियर उनके पास कई अहम जिम्मेदारियां रहीं. 29 मार्च, 1996 को उनका सेलेक्शन अंतरिक्ष यात्री के तौर पर हुआ और ट्रेनिंग की शुरुआत हुई. स्पेस के प्रति उनके लगाव का नतीजा रहा कि इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन प्रोग्राम का हिस्सा बनने के बाद अक्टूबर 1998 में उनकी इस प्रोग्राम के लिए ट्रेनिंग शुरू हुई. उन्होंने पहली उड़ान अप्रैल 2008 में भरी और अंतरिक्ष में 200 दिन बिताए थे.

ओलेग ने अन्तरिक्ष में 1000 दिन अपनी पाचंवी अंतरिक्ष यात्रा में पूरी की है. वो इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के तीसरी बार कमांडर भी रहे है.धरती के चारों तरफ चक्कर लगाते ऑर्बिटल लेबोरेटरी यानी इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर उनकी आखरी अंतरिक्ष यात्रा 15 सितंबर 2023 को हुई थी.तब उन्हें सोयुज एमस 24 स्पेसक्राफ्ट से स्पेस स्टेशन भेजा गया है.