देश की 34 फीसदी आबादी आलस से ग्रस्त WHO की रिपोर्ट में हुआ खुलासा

733

आपको ये जानकर हैरानी होगी कि हमारे देश के 34 फीसदी लोग आलस के शिकार हैं। ये बात हम नहीं कह रहे बल्कि ऐसा विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी रिपोर्ट में ये दावा किया है।

WHO की रिपोर्ट के मुताबिक भारत की 125 करोड़ आाबादी में करीब 34 फीसदी यानी लगभग 42 करोड़ लोग आलस की चपेट में हैं। और इसकी सबसे बड़ी वजह शारीरिक श्रम ना करना बताया गया है।

द लांसेट पत्रिका में छपी रिपोर्ट के अनुसार भारतीय महिलाओं में शारीरिक श्रम ना करने की समस्या पुरुषों की तुलना में दोगुनी है। WHO से मिली रिपोर्ट के मुताबिक देश की 47.7 प्रतिशत महिलाएं फिजिकल एक्सरसाइज करने से कतराती हैं। इसके अलवा 22.3 फीसदी पुरुष भी खुद को फिट नहीं रखते हैं।

आपको बता दें कि डब्ल्यू एच ओ के मुबातिक 2001 से अब तक ना सिर्फ भारत में बल्कि पूरी दुनिया में शारीरिक श्रम करने के स्तर में कोई सुधार नहीं हो पाया है।

इस रिपोर्ट में ये भी पाया गया कि जो देश फाइनेंशियली स्टॉंग हैं वहां के लोगों की फिजिकल हेल्थ ज्यादा खराब है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष में 9वीं रैंक रखने वाले कुवैत में 67 फीसदी लोग एक्सरसाइज करना पसंद नहीं करते हैं। आलसी देशों की सूची में कुवैत का पहला स्थान है।

ये रिपोर्ट जानने के बाद उम्मीद है कि आप इसकी गंभीरता को समझेंगे और खुद को फिजिकली फिट रखने के लिए रोजाना थोड़ा समय निकालकर एक्सरसाइज जरुर करेंगे।