spot_img
Homenews'बधाई हो' से हटेंगे ये सीन? दिल्ली सरकार ने जताया ऐतराज, भेजा...

‘बधाई हो’ से हटेंगे ये सीन? दिल्ली सरकार ने जताया ऐतराज, भेजा नोटिस

आयुष्मान खुराना, सान्या मल्होत्रा और नीना गुप्ता स्टारर फिल्म ‘बधाई हो’ बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुई है। दशहरे के मौके पर रिलीज हुई इस फिल्म ने अब 80 करोड़ रुपए का बिजनेस कर लिया। इसी बीच दिल्ली सरकार ने हालिया रिलीज फिल्म ‘बधाई हो’ के डायरेक्टर, प्रोड्यूसर और कलाकारों को कानूनी नोटिस जारी कर धूम्रपान के दृश्य हटाने के लिए कहा है।

अतिरिक्त निदेशक (स्वास्थ्य) डॉ एस.के अरोड़ा ने कहा कि फिल्म में धूम्रपान के ढेर सारे सीन हैं। फिल्म में बार-बार एक तंबाकू की दुकान दिखाई गई है जिसमें तंबाकू पैकेट दिखाए गए। ये सिगरेट एवं अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (सीओटीपीए) की धारा पांच का उल्लंघन हैं। सीओटीपीए की धारा 22 के तहत यह दंडनीय अपराध है।

अरोड़ा ने कहा, “हाल में रिलीज हुई फिल्म ‘बधाई हो’ के निर्देशक, निर्माता और अभिनेताओं को सख्त अनुपालन नोटिस जारी कर उनसे फिल्म में से धूम्रपान के दृश्यों को हटाने के साथ-साथ तंबाकू उत्पाद के विज्ञापन भी हटाने को कहा गया है क्योंकि सीओटीपीए के तहत यह अपराध है।”

यह पहली बार नहीं है, जब दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने बॉलीवुड से इस प्रकार के दृश्यों को हटाने की मांग की है. अरोड़ा ने कहा, “हमने बॉलीवुड को कई बार इस संबंध में पत्र लिखा है। बॉलीवुड कलाकारों और फिल्मों में अपने आदर्शो को देखते हुए युवा भी उनकी आदतों को अपनाने की कोशिश करते हैं। ऐसे में बॉलीवुड को अपने मूल्यों को स्वयं निर्धारित करना चाहिए और लोगों के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए. जनता के हित को देखते हुए पटकथा भी बदली जा सकती है।”

इससे पहले, स्वास्थ्य विभाग ने खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार को भी कानूनी नोटिस जारी किया था। इस पर अरोड़ा ने कहा, “एक ओर अक्षय को स्वास्थ्य संबंधी अभियानों का विज्ञापन करते हुए देखा जाता है, वहीं दूसरी ओर ‘गोल्ड’ फिल्म में उन्हें बार-बार धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। इस प्रकार की चीजों को नजरअंदाज किया जा सकता है। पटकथा को बदला जा सकता है।”

छत्तीसगढ़ के लेखक और पत्रकार पारितोष चक्रवर्ती ने ‘बधाई हो’ के निर्माता, निर्देशक और लेखक पर उनकी कहानी को चुराकर फिल्म बनाने का आरोप लगाया है। पारितोष चक्रवर्ती ने तीनों के खिलाफ रायपुर के पंडरी थाने में FIR दर्ज कराई है। IANS की रिपोर्ट के मुताबिक, पंडरी थाने के प्रभारी सोनल ग्वाला का कहना है कि हमें लिखित शिकायत मिली है. उस पर जांच की जा रही है।

शिकायत में पारितोष चक्रवर्ती ने आरोप लगाया है कि 19 साल पहले प्रकाशित उनके कहानी संग्रह ‘घर बुनते हुए’ में शामिल ‘जड़’ नामक कहानी को चुराकर फिल्म ‘बधाई हो’ बनाई गई है।” उन्होंने कहा, ”साल 1998 में आनंद बाजार पत्रिका समूह की पत्रिका सुनंदा और हिन्दी साप्ताहिक पत्रिका कादम्बिनी में ‘जड़’ कहानी का बांग्ला अनुवाद छपा था। इस कहानी को बिना इजाजत के फिल्म में हूबहू कॉपी किया गया है।”

यदि आप भी पत्रकारिता क्षेत्र में रूचि रखते हैतो जुड़िए हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट से :-