spot_img
Homenewsअनिल कपूर ने सोनम कपूर की बॉडी शेमिंग से जुड़ी परेशानियों के...

अनिल कपूर ने सोनम कपूर की बॉडी शेमिंग से जुड़ी परेशानियों के बारे में कही ये बातें…

: अनिल कपूर अपनी आगामी फिल्म फन्ने खान में पीहू सांड के पिता की भूमिका अदा कर रहे है जहाँ पीहू को बॉडी शेमिंग जैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। लेकिन अभिनेता अनिल कपूर असल जिंदगी में भी अपने बेटी सोनम और भतीजे अर्जुन को इस स्थिति से गुजरते हुए देख चुके है जिन्होंने डट कर इन सब परेशानियों का सामना किया है।

अनिल कपूर के निवास स्थल पर हुई वर्कशॉप के दौरान, अभिनेता युवा लड़की के आत्मविश्वास और हिस्टोरियोनिक्स से ख़ासा प्रभावित थे। अनिल कपूर ने कहा,” “ओरिजिनल बेल्जियम फिल्म “एवरीबॉडीज फेमस” देखने के बाद, मुझे पता था कि यह कास्टिंग का एक मुश्किल हिस्सा था लेकिन बिंदास पीहू से मिलने के बाद मुझे तुरंत अहसास हो गया था कि यही हमारी लता थी। जब मैं प्रतिभा देखता हूं, तो शारीरिकता सहित बाकी कोई भी चीज़ मायने नहीं रखती।” पीहू यानी लता के सपने और उन सपनों को पूरा करने के लिए अनिल कपूर द्वारा सहन किये जाने संघर्ष के इर्दगिर्द घूमने वाली इस फ़िल्म में वजन से जुड़ी परेशानी और बॉडी शेमिंग जैसी दिक्कतों को भी दिखाया गया है। हालाँकि, अभिनेता के लिए यह चिंता नई नहीं थी क्योंकि उनकी अभिनेत्री बेटी सोनम कपूर का वजन कुछ वर्ष पहले तक 86 किलोग्राम था। जब वह सिंगापुर गयी तो अपने माता-पिता से अलग होने के कष्ट को इस चीज़ का जिम्मेदार ठहराया और इस बारे में बात करते हुए अनिल ने कहा,”वह तीन-चार साल उसके लिए दर्दनाक थे और जब वह घर लौटी, तो मैं उसे देख कर चौंक गया था। जिस तरह से वह चलती थी, सीढ़ियां चढ़ने की पीड़ा, उसके चेहरे पर दिखने वाला दुःख, इन सब चीज़ों ने मेरा दिल तोड़ दिया था। ”

इस मुद्दे के बारे में बात करते हुए अनिल ने कहा,”बॉडी-शर्मिंग एक श्राप  है और वास्तव में हमारे बच्चों को दर्द देती है। एनोरेक्सिया नर्वोसा और एसोसिएटेड डिसऑर्डर (एएनएडी) के नेशनल एसोसिएशन के मुताबिक अमेरिका में सभी उम्र और लिंग के कम से कम 30 मिलियन लोग विकार खाने से पीड़ित हैं, जिसके परिणामस्वरूप हर 62 सेकंड में कम से कम एक मौत होती है। अपनी बेटी के बारे में बात करते हुए अनिल कपूर ने कहा, “सोनम हमेशा मेरी आंखों में परिपूर्ण और खूबसूरत रही है और मैं इस बात से बेहद खुश हूँ कि वह स्वस्थ है और आज खुद के साथ संतुष्ट है। जब सौंदर्य की बात आती है, तो हमें वास्तव में फिज़िकैलिटी से पर्सनालिटी पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होती है। महिलाएं जो स्मार्ट, बुद्धिमान, सहानुभूतिपूर्ण, निर्धारित और पूर्ण होती है वे सुंदर होती हैं। और सोनम भी इसी तरह सुंदर है।”

अगर आप पत्रकारिता जगत से जुड़ना चाहते हैं तो हमारे मीडिया इंस्टीट्यूट में संपर्क करें-

 यह भी देखें-