spot_img
Homeभक्ति धर्मग्रंथ-Scripturesहर घर में होनी चाहिए पंचदेव की पूजा, ऐसे करें पंचदेव को...

हर घर में होनी चाहिए पंचदेव की पूजा, ऐसे करें पंचदेव को ध्यान

हर घर में होनी चाहिए पंचदेव की पूजा

हर घर में होनी चाहिए पंचदेव की पूजा ऐसे करें पंचदेव को ध्यान-

१. गणपति ध्यान

खर्वं स्थूलतनुं गजेन्द्रवदनं लम्बोदरं सुन्दरं
प्रस्यन्दन्मदगन्धलुब्धमधुपव्यालोलगण्डस्थलम्‌ ।

दन्ताघातविदारितारिरुधिरैः सिन्दूरशोभाकरं
वन्दे शैलसुतासुतं गणपतिं सिद्धिप्रदं कामदम्‌ ॥

गणपतये गंधम समर्पयामि

गणपतये पुष्पं समर्पयामि

गं गणपतये धूपं समर्पयामि

ॐ गं गणपतये दीपं समर्पयामि।

ॐ गं गणपतये नैवेद्यं समर्पयामि

 

२. विष्णु का ध्यान

उद्यत्कोटिदिवाकराभमनिशं शंख गदां पंकजं
चक्रं बिभ्रतमिन्दिरावसुमतीसंशोभिपार्श्वद्वयम्‌।

कोटीरांगदहारकुण्डलधरं पीताम्बरं कौस्तुभै-
र्दीप्तं श्विधरं स्ववक्षसि लसच्छीवत्सचिह्रं भजे॥

विष्णवे गंधम समर्पयामि

ॐ श्री विष्णवे पुष्पं समर्पयामि

श्री विष्णवे धूपं समर्पयामि

श्री विष्णवे दीपं समर्पयामि

ॐ श्री विष्णवे नैवेद्यं समर्पयामि

 

३. शिव का ध्यान

 

ध्यायेन्नित्यं महेशं रजतगिरिनिभं चारूचंद्रावतंसं
रत्नाकल्पोज्ज्वलांग परशुमृगवराभीतिहस्तं प्रसन्नम्‌ ।

पद्मासीनं समन्तात्‌ स्तुतममरगणैर्व्याघ्रकृत्तिं वसानं
विश्वाद्यं विश्वबीजं निखिलभय हरं पंचवक्त्रं त्रिनेत्रम्‌ ।

ॐ नमः शिवाय गंधम समर्पयामि

शिवाय पुष्पं समर्पयामि

नमः शिवाय धूपं समर्पयामि

नमः शिवाय दीपं समर्पयामि

ॐ नमः शिवाय नैवेद्यं समर्पयामि

 

४. सूर्य का ध्यान

रक्ताम्बुजासनमशेषगुणैकसिन्धुं
भानुं समस्तजगतामधिपं भजामि।

पद्मद्वयाभयवरान्‌ दधतं कराब्जै-
र्माणिक्यमौलिमरुणांगरुचिं त्रिनेत्रम्‌॥

ॐ श्री सूर्याय गंधम समर्पयामि

श्री सूर्याय पुष्पं समर्पयामि

ॐ श्री सूर्याय धूपं समर्पयामि

सूर्याय दीपं समर्पयामि

ॐ श्री सूर्याय नैवेद्यं समर्पयामि

 

५. दुर्गा का ध्यान

सिंहस्था शशिशेखरा मरकतप्रख्यैश्चतुर्भिर्भुजैः
शंख चक्रधनुः शरांश्च दधती नेत्रैस्त्रिभिः शोभिता।

आमुक्तांगदहारकंकणरणत्काञ्चीरणन्नूपुरा
दुर्गा दुर्गतिहारिणी भवतु नो रत्नोल्लसत्कुण्डला॥

ॐ दुं दुर्गायै गंधम समर्पयामि

दुं दुर्गायै पुष्पं समर्पयामि

दुर्गायै धूपं समर्पयामि

दुं दुर्गायै दीपं समर्पयामि

ॐ दुं दुर्गायै नैवेद्यं समर्पयामि

इस प्रकार पूजन प्रक्रिया पूरी करने के पश्चात दक्षिणा – प्रदक्षिणा एवं आरती संपन्न करें और पंचदेवों से अपने तथा परिवार के कल्याण की कामना करें

￰ये हमारे पांच सनातन देव है इनकी ये तस्वीर हर सनातन धर्म के घर के पूजा स्थल पर होनी चाहिए सभी वास्तु ग्रह और दैहिक देविक भौतिक तापो और पाप को हर लेगी समस्त पुण्य देने वाला है ….ये ही हमारे पांच परमेश्वर है
गणेश शिव भगवती सूर्य नारायण जो इनकी नित्य पूजा करे उनको धर्म अर्थ काम इच्छा क्रिया शक्ति बुद्धि सिद्धि और मोक्ष प्राप्त होता है …..आप भी इसको अपने घर में विराजमान करे