पंचम भाव में स्थित गुरु का फल।। Jupiter in Fifth House

0
217

आपका स्वरूप दर्शनीय होना चाहिए। ईश्वर में आपकी आस्था है। आप धार्मिक और शुद्धचित्त व्यक्ति हैं। आपमें दयालुता और विनम्रता के गुण हैं। आप बुद्धिमान, पवित्र और श्रेष्ठ व व्यक्तियों में गिने जाएंगे। आप स्वभाव से न्यायशील होंगे। आपकी वाणी कोमल और मधुर होगी। आपकी कल्पना शक्ति बहुत उत्तम होगी। आप चतुर, समझदार और महान कार्य करने वाले व्यक्ति हैं।

आप उत्तम वक्ता, धारा प्रवाह बोलने वाले और कुशल व्याख्याता हो सकते हैं। आप प्रतिभावान और नीतिविशारद होंगे। आप उत्तम लेखक या ग्रंथकार हो सकते हैं। आपकी रुचि ज्योतिष में भी हो सकती है। संघर्षों से मुंह न मोडकर विपत्तियों से जूझते रहना आपकी विशेषता होगी। बॄहस्पति के प्रभाव के कारण आप स्वभाव से आराम तलब हो सकते हैं। आपकी संतान सुंदर और सुखी होगी।

आप स्थिर धन से युक्त सदा सुखी रहने वाले व्यक्ति होंगे। मनोरंजक और साहसी खेलों में आपको विजय मिलेगी। हो सकता है कि जब आपको कोई धन लाभ होना हो तो किसी प्रकार का विरोध आया करे। अशुभ दशा के समय कुछ अदालती मामले आपको परेशान कर सकते हैं। हांलाकि आपकी आमदनी सामान्य रह सकती है लेकिन आपकी जीवन यात्रा अच्छी रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here